राशिफल – आज का राशिफल और जाने श्राद्ध में क्या करें क्या ना करें

राशिफल – आज का राशिफल और जाने श्राद्ध में क्या करें क्या ना करें Hindu Panchang

आज का राशिफल आपको बताएगा कि आज के दिन आपको किन चीज़ों पर अधिक ध्यान देना चाहिए और किनसे बचने की कोशिश करनी चाहिए। आइए, देखते हैं क्या कहते हैं आपके सितारे।

दिनांक 16 सितम्बर 2019
दिन – सोमवार
विक्रम संवत – 2076 (गुजरात. 2075)
शक संवत -1941
अयन – दक्षिणायन
ऋतु – शरद
मास – अश्विन (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार भाद्रपद)
पक्ष – कृष्ण
तिथि – द्वितीया दोपहर 02:35 तक तत्पश्चात तृतीया
नक्षत्र – रेवती 17 सितम्बर प्रातः 04:23 तक तत्पश्चात अश्विन
योग – वृद्धि रात्रि 10:55 तक तत्पश्चात ध्रुव
राहुकाल – सुबह 07:48 से सुबह 09:19 तक
सूर्योदय – 06:26
सूर्यास्त – 18:40
दिशाशूल – पूर्व दिशा में

*व्रत पर्व विवरण –

💥 विशेष – द्वितीया को बृहती (छोटा बैंगन या कटेहरी) खाना निषिद्ध है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)
🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 जानिए पुराणों के अनुसार श्राद्ध का महत्व🌷

कुर्मपुराण :

कुर्मपुराण में कहा गया है कि ‘जो प्राणी जिस किसी भी विधि से एकाग्रचित होकर श्राद्ध करता है, वह समस्त पापों से रहित होकर मुक्त हो जाता है और पुनः संसार चक्र में नहीं आता।’

🙏 गरुड़ पुराण :

इस पुराण के अनुसार ‘पितृ पूजन (श्राद्धकर्म) से संतुष्ट होकर पितर मनुष्यों के लिए आयु, पुत्र, यश, स्वर्ग, कीर्ति, पुष्टि, बल, वैभव, पशु, सुख, धन और धान्य देते हैं।

🙏 मार्कण्डेय पुराण :

इसके अनुसार ‘श्राद्ध से तृप्त होकर पितृगण श्राद्धकर्ता को दीर्घायु, सन्तति, धन, विद्या सुख, राज्य, स्वर्ग और मोक्ष प्रदान करते हैं।

🙏 ब्रह्मपुराण :

इसके अनुसार ‘जो व्यक्ति श्रद्धा-भक्ति से श्राद्ध करता है, उसके कुल में कोई भी दुःखी नहीं होता।’ साथ ही ब्रह्मपुराण में वर्णन है कि ‘श्रद्धा एवं विश्वास पूर्वक किए हुए श्राद्ध में पिण्डों पर गिरी हुई पानी की नन्हीं-नन्हीं बूंदों से पशु-पक्षियों की योनि में पड़े हुए पितरों का पोषण होता है। जिस कुल में जो बाल्यावस्था में ही मर गए हों, वे सम्मार्जन के जल से तृप्त हो जाते हैं।

🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

श्राद्ध में क्या करें क्या ना करें sharad mein kya nahi karna chahiye milega sukha aur Dhan

1)- श्राद्ध एकान्त में ,गुप्तरुप से करना चाहिये, पिण्डदान पर दुष्ट मनुष्यों की दृष्टि पडने पर वह पितरों को नहीं पहुचँता, दूसरे की भूमि पर श्राद्ध नहीं करना चाहिये, जंगल, पर्वत, पुण्यतीर्थ और देवमंदिर ये दूसरे की भूमि में नही आते, इन पर किसी का स्वामित्व नहीं होता, श्राद्ध में पितरों की तृप्ति ब्राह्मणों के द्वारा ही होती है, श्राद्ध के अवसर पर ब्राह्मण को निमन्त्रित करना आवश्यक है, जो बिना ब्राह्मण के श्राद्ध करता है, उसके घर पितर भोजन नहीं करते तथा श्राप देकर लौट जाते हैं, ब्राह्मणहीन श्राद्ध करने से मनुष्य महापापी होता है | (पद्मपुराण, कूर्मपुराण, स्कन्दपुराण )

2)- श्राद्ध के द्वारा प्रसन्न हुये पितृगण मनुष्यों को पुत्र, धन, आयु, आरोग्य, लौकिक सुख, मोक्ष आदि प्रदान करते हैं , श्राद्ध के योग्य समय हो या न हो, तीर्थ में पहुचते ही मनुष्य को सर्वदा स्नान, तर्पण और श्राद्ध करना चाहिये,
शुक्ल पक्ष की अपेक्षा कृष्ण पक्ष और पूर्वाह्न की अपेक्षा अपराह्ण श्राद्ध के लिये श्रेष्ठ माना जाता है | (पद्मपुराण, मनुस्मृति)

3)- सायंकाल में श्राद्ध नहीं करना चाहिये, सायंकाल का समय राक्षसी बेला नाम से प्रसिद्ध है, चतुर्दशी को श्राद्ध करने से कुप्रजा (निन्दित सन्तान) पैदा होती है, परन्तु जिसके पितर युद्ध में शस्त्र से मारे गये हो, वे चतुर्दशी को श्राद्ध करने से प्रसन्न होते हैं, जो चतुर्दशी को श्राद्ध करने वाला स्वयं भी युद्ध का भागी होता है | (स्कन्दपुराण, कूर्मपुराण, महाभारत)

4)- रात्रि में श्राद्ध नहीं करना चाहिये, उसे राक्षसी कहा गया है, दोनो संध्याओं में भी श्राद्ध नहीं करना चाहिये, दिन के आठवें भाग (महूर्त) में जब सूर्य का ताप घटने लगता है उस समय का नाम ‘कुतप’ है, उसमें पितरों के लिये दिया हुआ दान अक्षय होता है, कुतप, खड्गपात्र, कम्बल, चाँदी , कुश, तिल, गौ और दौहित्र ये आठो कुतप नाम से प्रसिद्ध है, श्राद्ध में तीन वस्तुएँ अत्यन्त पवित्र हैं, दौहित्र, कुतपकाल, तथा तिल, श्राद्ध में तीन वस्तुएँ अत्यन्त प्रशंसनीय हैं, बाहर और भीतर की शुद्धि, क्रोध न करना तथा जल्दबाजी न करना (मनुस्मृति, मत्स्यपुराण, पद्मपुराण, विष्णुपुराण)

भारतीय संस्कृति सभ्यता एवं परम्परा से जुडी बातें भी पढ़ें :

  1. Amazing Benefits Of Vitamin C For Skin, Hair, And Health
  2. जानिए, भारत का राष्ट्रगान जन-गण-मन का वास्तविक अर्थ
  3. 56 (छप्पन) भोग क्यों लगाते है जाने भोग की महिमा
  4. देखिए सावन माह में महादेव का सोलह श्रृंगार
  5. Lord Krishna 64 kinds of arts called “Chausath Kalas”
  6. Do you know the importance of Aachman (आचमन)
  7. Shani dosh nivaran upay शनि देव को प्रसन्न करने के अचूक ज्योतिषी उपाय
  8. जानिए, कितने प्रकार की होती हैं भक्ति
  9. जानिये कृष्ण जन्माष्टमी का क्या है अर्थ और क्या है इसका महत्व
  10. भारत के प्रमुख भगवती शक्तिपीठ जिनके दर्शन मात्र से दूर हो जाते है सारे पाप
  11. महादेव के साक्षात् दर्शन करें और शिव का महामंत्र जिस से होगी शिव की प्राप्ति
  12. शिव कथा- जानिए भगवान शिव को क्यों कहते हैं त्रिपुरारी
  13. स्वास्थ्य: घरेलू उपाय जो एलर्जी से बचायें health tips for allergies

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: