Vrindavan dham temples सात ठाकुर जो वृंदावन में प्रकट हुए हैं

Vrindavan dham temples सात ठाकुर जो वृंदावन में प्रकट हुए हैं

मथुरा-वृंदावन और आसपास के इलाके में भगवान श्रीकृष्ण और राधारानी के अनगिनत मंदिर हैं, जहां हमेशा श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है. इनमें से कुछ मंदिर एकदम खास हैं, जहां सिर नवाए बगैर कोई जाना नहीं चाहता. मथुरा के द्वारकाधीश मंदिर की आरती विशेष रूप से दर्शनीय होती है. मंदिर में मुरली मनोहर की सुंदर मूर्ति विराजमान है.

मथुरा-वृंदावन के प्रसिद्ध मंदिरों Vrindavan famous temple name

वृंदावन में बांकेबिहारी मंदिर में श्रद्धालु प्रभु की कृपा पाने आते हैं. भगवान बांकेबिहारी की प्रतिमा भक्तों के सारे संताप हर लेती है.

1. गोविंददेव जी

कहाँ से मिली : वृंदावन के गौमा टीला से
यहाँ है स्थापित :जयपुर के राजकीय महल में
रूप गोस्वामी को श्री कृष्ण की यह मूर्ति वृंदावन के गौमा टीला नामक स्थान से वि.सं.1535 में मिली थी। उन्होंने उसी स्थान पर छोटी सी कुटिया में इस मूर्ति को स्थापित किया। इसके बाद रघुनाथ भट्ट गोस्वामी ने गोविंददेव जी की सेवा पूजा संभाली। उन्ही के समय में आमेर नरेश मानसिंह ने गोविंददेव जी का भव्य मंदिर बनवाया और इस मंदिर में गोविंददेव जी 80 साल विराजे। औरंगजेब के शासन काल में बृज पर हुए हमले के समय गोविंद जी को उनके भक्त जयपुर ले गए। तबसे गोविंदजी जयपुर के राजकीय महल मंदिर में विराजमान हैं।

2. मदन मोहन जी

कहाँ से मिली : वृंदावन के कालीदह के पास द्वादशादित्य टीले से
यहाँ है स्थापित : करौली (राजस्थान ) में
यह मूर्ति अद्वैत प्रभु को वृंदावन के द्वादशादित्य टीले से प्राप्त हुई थी। उन्होंने सेवा पूजा के लिए यह मूर्ति मथुरा के एक चतुर्वेदी परिवार को सौंप दी और चतुर्वेदी परिवार से मांग कर सनातन गोस्वामी ने वि.सं 1590 (सन् 1533) में फिर से वृंदावन के उसी टीले पर स्थापित किया। बाद मे क्रमश: मुलतान के नामी व्यापारी रामदास कपूर और उड़ीसा के राजा ने यहाँ मदन मोहन जी का विशाल मंदिर बनवाया। मुगलिया आक्रमण के समय भक्त इन्हे जयपुर ले गए पर कालांतर मे करौली के राजा गोपाल सिंह ने अपने राजमहल के पास बड़ा सा मंदिर बनवाकर मदनमोहन जी की मूर्ति को स्थापित किया। तब से मदनमोहन जी करौली में दर्शन दे रहे हैं।

3. गोपीनाथ जी

कहाँ से मिली : यमुना किनारे वंशीवट से
यहैं है स्थापित : पुरानी बस्ती, जयपुर
श्री कृष्ण की यह मूर्ति संत परमानंद भट्ट को यमुना किनारे वंशीवट पर मिली और उन्होंने इस प्रतिमा को निधिवन के पास स्थापित कर मधु गोस्वामी को इनकी सेवा पूजा सौंपी। बाद में रायसल राजपूतों ने यहाँ मंदिर बनवाया पर औरंगजेब के आक्रमण के दौरान इस प्रतिमा को भी जयपुर ले जाया गया। तबसे गोपीनाथ जी वहाँ पुरानी बस्ती स्थित गोपीनाथ मंदिर में विराजमान हैं।

4. जुगलकिशोर जी

कहाँ से मिली : वृंदावन के किशोरवन से
यहाँ है स्थापित : पुराना जुगलकिशोर मंदिर, पन्ना (म .प्र)
भगवान जुगलकिशोर की यह मुर्ति हरिराम व्यास को वि. सं 1620 की माघ शुक्ल एकादशी को वृंदावन के किशोरवन नामक स्थान पर मिली। व्यास जी ने उस प्रतिमा को वही प्रतिष्ठित किया।बाद मे ओरछा के राजा मधुकर शाह ने किशोरवन के पास मंदिर बनवाया। यहाँ भगवान जुगलकिशोर अनेक वर्षो तक विराजे पर मुगलिया हमले के समय उनके भक्त उन्हें ओरछा के पास पन्ना ले गए। ठाकुर आज भी पन्ना के पुराने जुगलकिशोर मंदिर मे दर्शन दे रहे है।

5. राधारमण जी

कहाँ से मिली : नेपाल की गंडकी नदी से
यहाँ है स्थापित : वृंदावन
गोपाल भट्ट गोस्वामी को नेपाल की गंडक नदी मे एक शालिग्राम मिला। वे उसे वृंदावन ले आए और केसीघाट के पास मंदिर मे प्रतिष्ठित कर दिया। एक दिन किसी दर्शनार्थी ने कटाक्ष कर दिया कि चंदन लगाए शालिग्राम जी तो एसे लगते है मानो कढ़ी में बैंगन पड़े हों। यह सुनकर गोस्वामी जी बहुत दुःखी हुए पर सुबह होते ही शालिग्राम से राधारमण जी की दिव्य प्रतिमा प्रकट हो गई। यह दिन वि. सं 1599 (सन् 1542) की वैशाख पूर्णिमा का था। वर्तमान मंदिर मे इनकी प्रतिष्ठापना सन् 1884 मे कि गई।

6. राधावल्लभ जी

कहाँ से मिली : यह प्रतिमा हित हरिवंश जी को दहेज में मिली थी
यहाँ है स्थापित : वृंदावन
भगवान श्रीकृष्ण की यह सुदंर प्रतिशत प्रतिमा हित हरिवंश जी को दहेज मे मिली थी। उनका विवाह देवबंद से वृंदावन आते समय चटथावल गाव में आत्मदेव नामक एक ब्राह्मण की बेटी से हुआ था। पहले वृंदावन के सेवाकुंज में (वि. सं 1591)और बाद में सुंदरलाल भटनागर द्वारा बनवाया गया (कुछ लोग इसका श्रेय रहीम को देते है ) लाल पत्थर वाले पुराने मंदिर में प्रतिष्ठित हुए।
मुगलिया हमले के समय भक्त इन्हे कामा (राजस्थान ) ले गए थे। वि. सं 1842 में एक बार फिर भक्त इस प्रतिमा को वृंदावन ले आये और यहा नवनिर्मित मंदिर में प्रतिष्ठित किया। तब से राधावल्लभ जी की प्रतिमा यहीं विराजमान है।

7. बांकेबिहारी जी

कहाँ से मिली : वृंदावन के निधिवन से
यहैं है स्थापित : वृंदावन
मार्गशीर्ष शुक्ल पंचमी को स्वामी हरिदासजी की आराधना को साकार रूप देने के लिए बांकेबिहारी जी की प्रतिमा निधिवन मे प्रकट हुई। स्वामी जी ने उस प्रतिमा को वहीं प्रतिष्ठित कर दिया। मुगलिया आक्रमण के समय भक्त इन्हें भरतपुर (राजस्थान ) ले गए। वृंदावन में ‘भरतपुर वाला बगीचा’ नाम के स्थान पर वि. सं 1921 में मंदिर निर्माण होने पर बांकेबिहारी जी एक बार फिर वृंदावन मे प्रतिष्ठित हुए। तब से बिहारीजी यहीं दर्शन दे रहे है।
बिहारी जी की प्रमुख विषेश बात यह है कि इन की साल में केवल एक दिन (जन्माष्टमी के बाद भोर में) मंगला आरती होती है, जबकि अन्य वैष्णव मंदिरों में नित्य सुबह मंगला आरती होने की परंपरा है।

भारतीय संस्कृति सभ्यता एवं परम्परा से जुडी बातें भी पढ़ें :

  1. भारत के प्रमुख भगवती शक्तिपीठ जिनके दर्शन मात्र से दूर हो जाते है सारे पाप
  2. महादेव के साक्षात् दर्शन करें और शिव का महामंत्र जिस से होगी शिव की प्राप्ति
  3. Lord Shiva Mahadeva Images & Wallpapers महादेव ज्योतिर्लिंग दर्शन
  4. 56 (छप्पन) भोग क्यों लगाते है जाने भोग की महिमा
  5. जानिए भगवान शिव के विभिन्न नामों को उनकी महिमा को
  6. Lord Shiva Stories जानिए शिव जी की संतान से जुडा खास रहस्य
  7. जानिए भगवान कृष्ण की 8 पत्नियों और 80 पुत्रों के बारे में रोचक जानकारी
  8. जानिए 12 ज्योतिर्लिंगों का महत्व व महिमा
  9. लिखावट के आधार पर जानिए कैसा है आपका व्यक्तित्व
  10. Shani dosh nivaran upay शनि देव को प्रसन्न करने के अचूक ज्योतिषी उपाय
  11. जानिए, कितने प्रकार की होती हैं भक्ति
  12. जानिये कृष्ण जन्माष्टमी का क्या है अर्थ और क्या है इसका महत्व
  13. आखिर क्यों नहीं खाते चावल एकादशी के दिन जानकर चौंक जाएंगे आप
  14. शिव कथा- जानिए भगवान शिव को क्यों कहते हैं त्रिपुरारी

One thought on “Vrindavan dham temples सात ठाकुर जो वृंदावन में प्रकट हुए हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: