तुलसी जी के स्तुति मन्त्र (Tulsi Stuti Mantra)

तुलसी जी के स्तुति मन्त्र (Basil Tulsi Stuti Mantra) जो आपको धन-संपदा और वैभव दिलाते है, अथवा तुलसी को तोड़ने से पहले बोले जाने वाले मंत्र

तुलसी पूजन के पौराणिक मंत्र पौराणिक ग्रंथों में तुलसी का बहुत महत्व माना गया है। जहां तुलसी का प्रतिदिन दर्शन करना पापनाशक समझा जाता है, वहीं तुलसी पूजन करना मोक्षदायक माना गया है। हिन्दू धर्म में देव पूजा और श्राद्ध कर्म में तुलसी आवश्यक मानी गई है।
तुलसी पत्र से पूजा करने से व्रत, यज्ञ, जप, होम, हवन करने का पुण्य प्राप्त होता है।तुलसी जी के स्तुति मन्त्र (Tulsi Stuti Mantra)

आइए जानते हैं तुलसी के विशेष मंत्र…तुलसी के पत्ते तोड़ते समय बोलने के मंत्र
ॐ सुभद्राय नमः…ॐ सुप्रभाय नमः
मातस्तुलसि गोविन्द हृदयानन्द कारिणी नारायणस्य पूजार्थं चिनोमि त्वां नमोस्तुते ।।

तुलसी को जल देने का मंत्र
महाप्रसाद जननी, सर्व सौभाग्यवर्धिनी
आधि व्याधि हरा नित्यं, तुलसी त्वं नमोस्तुते।।

तुलसी स्तुति का मंत्र
देवी त्वं निर्मिता पूर्वमर्चितासि मुनीश्वरैः
नमो नमस्ते तुलसी पापं हर हरिप्रिये।।

जानिए नवरात्र के दिन कौन सा शुभ रंग का उपयोग करें
आखिर क्यों वर्जित है नवरात्रों में प्याज और लहसुन का प्रयोग

तुलसी पूजन के बाद बोलने का तुलसी मंत्र
तुलसी श्रीर्महालक्ष्मीर्विद्याविद्या यशस्विनी।
धर्म्या धर्मानना देवी देवीदेवमन: प्रिया।।
लभते सुतरां भक्तिमन्ते विष्णुपदं लभेत्।
तुलसी भूर्महालक्ष्मी: पद्मिनी श्रीर्हरप्रिया।।

तुलसी नामाष्टक मंत्र
वृंदा वृंदावनी विश्वपूजिता विश्वपावनी।
पुष्पसारा नंदनीय तुलसी कृष्ण जीवनी।।
एतभामांष्टक चैव स्त्रोतं नामर्थं संयुतम।
य: पठेत तां च सम्पूज्य सौश्रमेघ फलंलमेता।।

तुलसी के प्रतिदिन पूजन करने से घर में धन-संपदा, वैभव, सुख समृद्धि की प्राप्ति होती हैं।
हिन्दू धर्म में तुलसी का पौधा देवीय स्वरूप में पूजनीय है। धर्मग्रंथों में तुलसी भगवान विष्णु की प्रिय बताई गई है। जिससे यह पवित्र और पापनाशिनी मानी गई है। धार्मिक दृष्टि से घर में तुलसी का पौधा और उसकी उपासना दरिद्रता का नाश कर सुख-समृद्ध करने वाली होती है। वहीं व्यावहारिक रूप से भी तुलसी को खान-पान में शामिल करना रोगनाशक और ऊर्जा देने वाला माना गया है।

ये भी पढ़ें->>
 Navratri 2017:ऐसे करें घटस्थापना,होंगी माँ प्रसन्न,होगी हर मनोकामना पूर्ण
आखिर क्यों करना चहिये नवरात्र में दुर्गा सप्तशती का पाठ

शास्त्रों में तुलसी को माता गायत्री का स्वरूप भी माना गया है। गायत्री स्वरूप का ध्यान कर तुलसी पूजा मन, घर-परिवार से कलह व दु:खों का अंत कर खुशहाली लाने वाली मानी गई है। इसके लिए तुलसी गायत्री मंत्र का पाठ मनोरथ व कार्य सिद्धि में चमत्कारिक भी माना जाता है।

जानते हैं यह तुलसी गायत्री मंत्र व पूजा की आसान विधि
सुबह स्नान के बाद घर के आंगन या देवालय में लगे तुलसी के पौधे की गंध, फूल, लाल वस्त्र अर्पित कर पूजा करें। फल का भोग लगाएं। धूप व दीप जलाकर उसके नजदीक बैठकर तुलसी की ही माला से तुलसी गायत्री मंत्र का श्रद्धा से सुख की कामना से कम से कम 108 बार स्मरण अंत में तुलसी की पूजा करें

ॐ श्री तुलस्यै विद्महे। विष्णु प्रियायै धीमहि। तन्नो वृन्दा प्रचोदयात्।।

आपको यह खबर अच्छी लगे तो Twitter पर SHARE जरुर कीजिये और FACEBOOK PAGE पर LIKE कीजिए, और खबरों के लिए पढते रहे

6 thoughts on “तुलसी जी के स्तुति मन्त्र (Tulsi Stuti Mantra)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: